Interesting facts about Fishes in Hindi-2 (मछलियों के बारे में रोचक तथ्य-2)


csje+vec
1. शाही मछली एक प्रकार की फूलने
वाली मछली होती है जो कि 35 इंच से ऊपर
लंम्बी हो जाती है. यह ऐसे पानी द्वारा फूल जाती है
जो कि निगला जा सकता है. यह इस
पानी को अपने महदे के अंदर स्टोर कर लेती है
जिससे यह फूल जाती है.
2. मछलियां भी पानी में डूबने से मर सकती है. जिस
तरह से मनुष्यों को ऑक्सीजन की जरूरत होती है
वैसे इन्हें भी ऑक्सीजन की जरूरत होती है. मतलब
कि अगर मछलियों को पानी में ऑक्सीजन
नही मिलेगी तो वह दम घूटने की वजह से पानी में
डूबकर मर जाएगी.
3. एक मछलियों के झुड़ में जो मछली मध्य में होती है
वही पूरे झुंड़ को नियंत्रण में रखती है.
बाकी की मछलीयां मध्य की मछली के निर्देश
अनुसार चलती हैं.
4. ज्यादातर मछलियां पिछली और नही तैर
सकती जो तैर सकती है वह मुख्य रूप से सर्पमीन
की प्रजाति के मैंबर होते है. सर्पमीन सांप
जैसी मछलियां होती है.
5. अगर एक मछली कुछ चबाती है तो उसका दम
घुटता है क्योंकि चबाने से उनके गलफडो़ के ऊपर से
जो पानी निकलता है वह उसमें बाधा उत्पन्न
करता है जिससे कि मछली का दम घुटता है.
6. दुनिया की सबसे बड़ी मछली ‘दैत्य व्हेल शार्क’ है जिसकी लंम्बाई दो स्कूल बसों जितनी बढ़
जाती है. इसका वजन लगभग 25,000
किलो होता है और यह मुख्य रूप से प्लवक खाती है.
प्लवक खारे पानी में उगने वाली बनस्पती होती है.
इसके लगभग 4,000 दांत होते है जो कि मात्र 3
मिलीमीटर आकार के होते हैं.
7. पत्थर मछली दुनिया में सबसे
जहरीली मछली होती है. इसके काटने से व्यकित
पैरालाइज हो सकता है. अगर कुछ ही घंटो में पीड़त
का उपचार नही होता तो उसकी मृत्यु हो जाएगी.
8. पीरैनहस एक प्रकार की मछली होती है
जो कि दक्ष्णिी अमरीका में पाई जाती है. इसके
दांत बहुत ही तीखे होते है. यह
मछलियों ,कीड़ों,बीजो, फलों के साथ-
सथा घोड़ो को भी खा सकती है.
9. सेलफिश सबसे तेज मछली हो जो कि 100
किलोमीटर प्रति घंटा की रफतार से तैर
सकती है. 10. समुद्रीघोड़ा मछली सबसे धीमे चलने
वाली मछली है. इसमें से क्षुद्र(लघु)
संमुद्रीघोड़ा मछली पाँच फुट तक चलने में एक
घंटा लगाएगी. इतना धीमे चलने के कारण यह
आपको चलते हुए भी रुकी नजर आएगी.
11. कुछ मछलियों की चमड़ी पर कांटे होते है और
शार्को जैसी मछलियों की चमडी रेगमार
जैसी होती है.
12. हैमरहैड शार्के 500 तक के बडे़ समूह में चलती है.
सबसे शक्तिशाली मादा मध्य में चलती है और जब
वह सहवास के लिए त्यार होती है
तो दूसरी किसी मादा के साथ दोनो तरफ सिर
मिलाने के बाद वह अपना स्थान उसे दे देती है.
13. कुछ पुपमछलियां 45 डिगरी तक के गर्म तापमान
में भी रह सकती हैं.
14. एक नर सम्राट ऐंगलमछली पाँच से
ज्यादा मादा साथियों के साथ रहती है. जब सम्राट
ऐंगमछली की मौत हो जाती है तो उनमें से एक
मादा मछली झुंड की नेता बनने के लिए नर
मछली बन जाती है. यब अभी तक रहस्य बना हुआ है.
15. अब तक लगभग 32,000 हजार प्रकार
की मछलियों का पता लगाया जा चुका है जो अलग-
अलग प्रकार का भोजन करती है . पर वैज्ञानिक
अभी भी नई-नई प्रका की प्रजातीयों को खोज रहें
है.
16. बैटफिस एक प्रकार की ऐसी मछली हो जो खतरे
का आभास होने पर बिलकुल गतीहीन हो जाती है
और वह एक बहते हुए पत्ते की तरह नजर आती है.
17. ऐनाबलीप्स मछली के चार आँखे होती है और वह एक
ही समय में ऊपर और नीचे देख सकती है.
18. कुछ चक्रवात पानी के ऊपर तैर
रही मचलियों को उड़ाने जाते है और जमीन पर
वर्षां के साथ फेक देते है. ऐसा हजारो सालों से
होता आ रहा है. रोमन लेखक पलिनी पहली सदी में
एक ऐसी ही घटना का एक लेख में वर्णन करते हैं.
19. लैमप्रीस और हैग मछलियां करोडो़ सालों से अब
तक जीवित है. यह अबी तक भी पूरी तरह से
विकसित नही हुई है.
20. नर ऐंगल मछली आकार में मादा से बहुत
छोटी होती है. मादाओं की लंम्बाई जहां 24 इंच तक
बढ़ जाती है तो दूसरी तरफ नरों की केवल 1.6 इंच
ही होती है. नर, मादाओं के ऊपर परजीवी की तरह निर्भर है.
21. वैज्ञानिको ने संमुद्र की गहराई का केवल एक
प्रतीशत हिस्सा ही खोजा है. वह मानते है
कि अभी भी लांखों जीव-जंतू अपनी खोज के लिए
इंतजार कर रहे हैं.
22. सालमान मछलियां पानी के बहाव की विपरीत
दिशा में भी आसानी से तैर सकती है. इसके
इलावा यह नदीयो और ठंडे संमुद्रों में भी आसानी से
रह सकती है.
23. संमुद्रीघोड़ा मछली अपनी दोनो आँखो को अलग-
अलग घुमा सकती है. वह एक ही समय में एक आँख से
दाई ओर, और दूसरी से बाई ओर देख सकती है. इसके
इलावा यह आसपास के वातावरण अनुसार अपना रंग
भी बदल सकती है.
24. ज्यादातर किस्म की संमुद्रीघोड़ा मछिलयां जोड़े
(नर और मादा) के रूप में इकट्टठी रहती है.
मादा संमुद्री घोड़ा अपने अंडे नर के पेट के अंदर
बनी एक थैली में देती है. जब अंड़ो से बच्चे निकलने
वाले होते हैं तो नर अपनी पुंछ की सहायता से उन्हें
संमुद्री काई के ऊपर रख देते है.
25. ज्यादातर मछलियों की तरह सुर्यमछली के पुंछ
नही होती. एक मादा सुर्यमछली एक साल में तीस
करोड़ अंडे दे सकती है. प्रत्येक अंडे का आकार महज
एक बिंदु के जितना होता है.
26. मछलियां ठंड़े-खून वाले प्राणी हो. अर्थात
इनका अंदरूनी तापमान आसपास के वातावरण
अनुसार बदल जाता है.
27. मछलियों की इतनी प्रजातियां होने बावजूद
भी 96 प्रतीशत मछलियों की एक ही किस्म है-
वह है बोनी मछली. बाकी के
बची ही शार्क,व्हेल,सालमान,समुद्री घोड़ा आदि है.
28. अमेजन नदी में पूरे युरोप से अधिक
मछलियों की प्रजातियां पाई जाती है.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s